Tags Himachali poem

Tag: himachali poem

हिमाचली कविता-सड़कां

सड़कां हुण वणियां, पहलें रस्ते चलदे थे दिन रात। निड़र होई जांदे थे, सियाला हो चाहे वरसात।। हंड़दे थे लमियां वतां, चढदे उतरदे थे कुआलू। ज़ालू थकी...

You May Also Like

द्रोणाचार्य नगरी का शिव-बाड़ी या द्रोण शिव मंदिर -गगरेट

ऊना जिले के गगरेट में अंबोटा गांव में स्थित शिव-बाड़ी या द्रोण शिव मंदिर है जो कि बहुत खास माना जाता है। मंदिर के...